मानवता - मानवता क्या है और आजकल मानवता के असल में क्या मायने एक - एक प्रेरणात्मक कहानी मानवता के बारे में
नमस्कार दोस्तों, आज के टाइम में हर किसी की एक ही तम्मना है और वो ये है कि उसके पास अच्छी जॉब हो और एक बढ़िया पोजीशन हो | हर कोई इसी के लिये प्रयास कर रहा है और आजकल की भागती जिन्दगी में हम अपने मानवता  के बहुत से कर्त्तव्य को भूलते जा रहे है|

अच्छी जॉब होना और बढ़िया पोजीशन पर होना सबको पसंद है लेकिन इस काम में आपको ये कभी नहीं भूलना चाहिये कि आप सबसे पहले एक मनुष्य है और एक मनुष्य के कई मानवीय मूल्य है जिनको पूरा करना भी आपका फ़र्ज़ है|

जिन्दगी में आगे बढ़ो और खूब तरक्की करो लेकिन आप क्या कर रहे हो इसके बारे में आपको पूरा ज्ञान होना चाहिये और ऐसा ना हो कि आप एक सफल आदमी बनने के चक्कर में आप मनुष्य होने के फ़र्ज़ भूल जाये|

इसी कड़ी में आपको आज में एक प्रेरक प्रसंग बता रहा हूँ जो कि सच में आपको अन्दर तक हिला कर रख देगा|


नीचे तस्वीर में एक गिद्ध भूख से मर रही एक छोटी लड़की के मरने का इंतज़ार कर रहा है । इसे एक साउथ अफ्रीकन फोटो जर्नलिस्ट केविन कार्टर ने 1993 में सूडान के अकाल के समय खींचा था और इसके लिए उन्हें पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था । लेकिन कार्टर इस सम्मान का आनंद कुछ ही दिन उठा पाए क्योंकि कुछ महीनों बाद 33 वर्ष की आयु में उन्होंने अवसाद से आत्महत्या कर ली । क्या हुआ?

दरअसल जब वे इस सम्मान का जश्न मना रहे थे तो सारी दुनिया में प्रमुख चैनल और नेटवर्क पर इसकी चर्चा हो रही थी । उनका अवसाद तब शुरू हुआ जब एक 'फोन इंटरव्यू' के दौरान किसी ने पूछा कि उस लड़की का क्या हुआ? कार्टर ने कहा कि वह देखने के लिए रुके नहीं क्यों कि उन्हें फ्लाइट पकड़नी थी । इस पर उस व्यक्ति ने कहा ---- "मैं आपको बता रहा हूँ कि उस दिन वहां दो गिद्ध थे जिसमें एक के हाथ में कैमरा था "


इस कथन के भाव ने कार्टर को इतना विचलित कर दिया कि वे अवसाद में चले गये और अंत में आत्महत्या कर ली ।
कार्टर आज जीवित होते अगर वे उस बच्ची को उठा कर यूनाईटेड नेशन्स के कुपोषण सेन्टर तक पहुँचा देते जहाँ पहुँचने पर उसे जीवन दान मिल जाता ।


अतः किसी भी प्रोफेशन में आप कुछ भी पोज़िशन प्राप्त कर ले लेकिन आप मे मानवता नही तो सब कुछ व्यर्थ है । आप मानव है तो मानव होने का परिचय दे । दोस्तों कहने का मतलब है कि कोई मुसीबत में हो तो उसका वीडियो या फोटो लेने की बजाये उसकी सहायता करे l


अगर कोई मुसीबत में है तो आप अपने कैमरे में उस दृश्य को रिकॉर्ड करने की बजाय उस स्थिति से किसी को अवगत करवाए या आपसे जो भी हो सकता है यथासंभव किसी की सहायता करने का प्रयास करे|

आजकल फोटो लेना और मुसीबत में पड़े किसी की विडियो बनाना एक फैशन बन गया है लेकिन आप ऐसा कभी मत करे और अपने मुनुष्य होने का फ़र्ज़ अदा करे|

दोस्तों, आपको हमारा ये लेख कैसा लगा आप इसके बारे में अपने विचार जरुर दे और आप भी अगर अपना कोई प्रेरक प्रसंग या कहानी हमारे इस ब्लॉग पर प्रकाशित करवाना चाहते है तो आप हमसे संपर्क कर सकते है| हम आपके नाम और आपके पूरे विवरण के साथ उसे publish करेंगे|

                                                          धन्यवाद 

Next
This is the most recent post.
Previous
Older Post
Axact

Admin

भारत के इस इस पावन राट्रीय पर्व की आपको हार्दिक शुभकामनाये आइये हम सब मिलकर इस पावन त्यौहार को और हर्ष और उल्लास के साथ मनाये और आपसी भाईचारे और देशभक्ति की एक और मिशाल कायम करे भारत माता की जय और मेरे देश की सीमा पर तैनात हमारे वीर जवानों को हमारा सलाम .

Post A Comment:

0 comments: